क्या किसी ने सोचा हैं बिहार के गावों में विधवाओं की संख्या कितनी बड़ रही हैं ?…

क्या किसी ने सोचा हैं बिहार के गावों में विधवाओं की संख्या कितनी बड़ रही हैं ?
बेइज्जती वाली मौत चाहे वो भुख से हो, कोविड के विस्थापन से हो , आतंकवादी की गोली से, आग में जल के हो या जैसे भी होगी बिहारियों की ।
और हमारे मुख्यमंत्री में कोई बेचैनी नहीं, बिहारियों ने भी इसे नियति मान लिया हैं
कोई नहीं…

More

May be a closeup of child and outdoorsMay be an image of 1 person and beard


Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *