गुलामो ख़ुश रहो ….. क्रियेटर वो रहेंगे और हमारी औक़ात कभी भी आपरेटर से आगे नहीं …

गुलामो ख़ुश रहो ….. क्रियेटर वो रहेंगे और हमारी औक़ात कभी भी आपरेटर से आगे नहीं हो सकता …… ग़ुलामी की कोई ज़ंजीर नहीं वो सोच है जो तुम्हें गुलाम बनाता है !
ऐसे ही अब धीरे धीरे उद्योगपति भी ज्यादा इन्वेस्टमेंट बाहर करने लगे हैं, कौन यहां पैसा लगा के बवाल पालेगा, बाहर ही सही
Ek Jajabore




Source

Leave a Reply

Your email address will not be published.