जैसी जनता वैसा शासक, कल कोई खेल बदल रहा था कोई भविष्य से खेल रहा था।…

जैसी जनता वैसा शासक, कल कोई खेल बदल रहा था कोई भविष्य से खेल रहा था।
System को सिस्टम के बाहर का आदमी ही सुधार सकता हैं ।

May be an image of 2 people, people standing and indoorMay be an image of 4 people, people standing and indoor


Source

Leave a Reply

Your email address will not be published.