नेता चाहे कुछ भी कर ले , कितना भी अच्छा नीति निर्धारण कर दे, पालन करवाना तो अधिक

नेता चाहे कुछ भी कर ले , कितना भी अच्छा नीति निर्धारण कर दे, पालन करवाना तो अधिकारियों को हैं.
नौकर कुछ राज्यो में शाह हो गए हैं
जनता गालियां नेताओं को देगी
असली दोषी कौन ?
शीर्ष पे के कुछ जनाधार विहीन नेता और अधिकारियों ने जनता को कीड़ा मकोड़ा समझ रखा है, जो हम हैं भी




Source

5 thoughts on “नेता चाहे कुछ भी कर ले , कितना भी अच्छा नीति निर्धारण कर दे, पालन करवाना तो अधिक

  1. Kuchh log apni galti ka thikra padosi pe dalte hai. Hum jis jagah ke hai vaha ke soche na ki China Sauth korea.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *