भीड हैं, भीड हैं , भेड़ों की भीड़ हैं !!!!!…

भीड हैं, भीड हैं , भेड़ों की भीड़ हैं !!!!!
जो गलती गांधीजी ने चंपारण ( नील आंदोलन ) में किया वहीं मोदीजी ने कल किया, और हम बिहारी गिरमिटिया तो जो हैं सो हैं ।
नफरत और भक्ति किसी को भी अति ठीक नहीं, emotional fools का इस दुनिया में कद्र नहीं , पूरा लेख पढ़ के चाय बागानों से compare कर लीजिएगा ।…

More

May be an image of 2 people


Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *