"वही कातिल वही शाहिद वही मुंसिफ ठहरे…


"वही कातिल वही शाहिद वही मुंसिफ ठहरे
अकरबा मेरे करें कत्ल का दावा किस पर "

जबसे नीतिश सरकार आई हैं तबसे आज तक के Governer साहबो की लिस्ट संलग्न हैं, गवर्नर साहब ही यूनिवर्सिटी के Chancellor भी होते हैं, विद्यार्थियों की दुर्दशा के लिए कौन जिम्मेदार हैं आप सोच ले, कौन गवर्नर किस पार्टी से ताल्लुक रखते हैं ये कोई परमाणु बॉम्ब का फॉर्मूला नहीं हैं ।
ये भी सोचना नहीं हैं की कोई governer एक छात्र से मिले किस मुंह से !!!!! इसीलिए ऐसे ऐसे थानेदार रहते हैं सचिवालय थाना में!!!!
संजीव श्रीवास्तव
Bihar सामाजिक अंकेक्षण






Source

Leave a Reply

Your email address will not be published.