Article 2 :…

Article 2 :
Nitish Kumar जी ने रोजगार पे पिछले साल ये घोषणा की थी, अखबारों ने बड़ी गौरव गाथा लिखी ।
तब मैने एक सवाल पूछा था : अगर रोजगार आपके जेब में पड़ा था तो आज तक क्यों नहीं दिए ? इतनी बेइज्जत क्यों कराए ? DNA check करवा रहे थे, खैर !!!!!!
अब आज कोई पत्रकार या अखबार या मीडिया इन ललित निबंधों की विवेचना नहीं करेगा, और आपने भी फिर उन्हीं को मुख्यमंत्री बना के उनके दंभ को और बड़ा दिया ।
फिर भी लोकतंत्र हैं, भले ही आज तंत्र लोक पर हावी है पर सवाल लोक द्वारा ही होगा
" रोजगार मिला "
और सवाल अपने visionless विधायक या मंत्री से कीजिए और साथ में उस अदृश्य शक्ति से भी कीजिए जिसका उपासक हैं बिहार और वो शक्ति हैं : अधिकारी
और ये दोनो मिला के बनता हैं system
(29 May 2020 का अखबार हैं)




Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *