Thank you Hyderabad police, तगड़ा रहो

Thank you Hyderabad police, तगड़ा रहो
मैं Hyderabad police के इस unprofessional behaviour की कड़ी निंदा करता हूं
भगवान से प्रार्थना करता हूं की ऐसी कड़ी निंदा का मौका हमें बार-बार दें
मारो MC’o को



Source

17 thoughts on “Thank you Hyderabad police, तगड़ा रहो

  1. Lekin sir, kal tak Dr. PRIYANKA k liye jinke muh se ek shabd n nikle…wo sabhi aaj Human right activists ban jayenge

  2. ये Extra Judicial Justice से कैसे रेप जैसे जघन्य अपराधों का समाधान होगा?? बेहतर होगा कि ऐसे मामलों के लिए सरकार कानून में सुधार कर अरब देशों जैसा त्वरित सुनवाई पश्चात अपराधियों की सार्वजनिक फाँसी या चौराहे पे Gun-Squad द्वारा मौत की सजा का प्रावधान करे..
    क्या सेंगर..चिन्मयानन्द.. जैसों को इस तरह एनकाउंटर दिखा सजा देने की है औकात किसी सरकार में??

  3. 6 दिसंबर पाप और पापियों के नाश का दिन है। हमें खुश होना चाहिए। अन्याय का अंत कई बार अन्याय के सहारे ही किया जाता है।
    भारत के लिए आज उत्सव का दिन है। इस घटना का दूरगामी सकारात्मक असर होगा।

  4. इस अनुसार रंजन गोगोई पर भी जब आरोप लगा था, तो उनका भी यही किया जाना चाहिए था। आप तब भी बधाई दे रहे होते ये जानकर खुशी हुई।

  5. खैर, एक बात तो तय है, कलयुग है, आजकल तेरहवीं कै पहले होता है न्याय

  6. गरीब को न्याय
    ——————
    जहां कलम बिक जाता है,
    सरे आम बंजारों में।
    तभी कही बंदूक उठा है,
    पत्थर रख अरमानों पर।
    अत्याचारी का वध हुआ है,
    यू ना विधवा विलाप करो,
    घर-घर बेटी कांप रही थी,
    भारत का अभिशाप कहो।
    अंजाने में न्याय हुआ है,
    बेटी का सम्मान कहो।
    यू ही कलम बिकता रहा तो,
    बंदुक पर ही अभियान करो।

    संतोष कुमार राय
    पूर्व सैनिक, भारतीय थल सेना।

  7. “सीख अगर सीखलानी हो
    और लंका अगर जलानी हो
    तो नियम तोड़ना जायज़ है

    रावण सा अभिमानी हो
    और सीता अगर बचानी हो
    तो नियम तोड़ना जायज़ है

    पाँच(5 वर्ष) के ऊपर टिकट लगेगा
    अठारह का नाबालिग है
    ऐसे नियम बनाने वालों
    ये नियमों पे कालिख है
    सरकारे अगर जगानी हो
    हर दिल की चीख सुनानी हो
    तो नियम तोड़ना जायज़ है

    उस चिता की राख बुझानी हो
    और बेटी अगर बचानी हो
    तो नियम तोड़ना जायज़ है

    ✍️

    #telangna_encounter
    #drpriyankareddy

  8. आरोप लगना और सही में कुकृत्य करना बहुत ही अंतर है और इसके बाद भी किसी आदमी के दिल में उसके प्रति जरा भी सहानुभूति है जिसने यह कर्म किया मेरे ख्याल से वह आदमी सही पैमाने पर नहीं है

  9. Hyderabad police को इंकॉन्टर के लिये सलाम , अगर hyderabad police ने जानबूझकर इंकॉन्टर की तो 100 बार सलाम ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *