4 thoughts on “Thank you Kejriwal

  1. राजनीति सेवा कार्य है न कि व्यपार!

    मनोज तिवारी जैसा राजनीति तो कोई भी दिल्ली में बैठ के कर सकता है
    अगर उनको बिहार की चिंता थी या है तो दिल्ली से पटना 2 घंटे में पहुंचा जा सकता था
    लेकिन नही
    क्योंकि सब दिल्ली चुनाव की जमीन बना रहे हैं, भले आज 2 दिन की बारिश से बिहारियो की जमीन खिसक गई हो

    ये नेता ऐसी हिमाकत इसलिए कर जाते हैं क्यूंकि इनके एक c ग्रेड गाने पे हम गमछा लहरा के सब भूल जाते हैं
    दरसल हम जूता और गाली खाने को ही पैदा हुए हैं

    अगर नही तो आज भी समय है भले आप अपने जमीन पर हल चलाइये और बुद्धिमानी से अनाज फल सब्जी पैदा किजये
    इस बात का रोना मत रोइये की हमारे यहां इंडस्ट्रीज नही है
    जो संसाधन है उसको उपयोग और उपभोग किजये

    जिस दिन देश आपकी फल सब्जी अनाज के लिए आपकी तरफ देखेगा
    सही में उसदिन वो आपकी इज़्ज़त करेगा

    नही तो कभी दिल्ली, कभी मुम्बई, कभी बंगलोर, कभी असम,कभी पंजाब सब जगह गाली ही मिलेगी
    देश का कोई भी उधोग हो उसमे 60% बिहारी हैं
    चाहे वो टेम्पो वाला हो, मशीन ऑपरेटर हो, राजमिस्री, लेबर, पलदार, ट्रांसपोर्टर, ड्राइवर, वॉचमैन, कम्युटर ऑपरेटर, सॉफ्टवेर इंजीनियर, MBA, C.A
    सब अगर आज वापिस बिहार आकर अपने गाँव की जमीन को अगर अपने पसीने से सींचेगा तो जरूर एक दिन फिर से बिहार धान का कटोरा हो सकता है या फ़िर बिहार का एक फल सब्ज़ी या कोई अनाज दूसरे राज्य की थाली में जरूर होगा।
    अब भी समय है
    समझीये…
    सब राजनीति करते हैं
    अपनी तकदीर और अपने बच्चों की तकदीर आपको खुद ही बनानी होगी
    बाद बांकी नेताओं औऱ देश की तकदीर बनाने में आपने कोई कसर नही छोड़ी है
    अब भी समय है जागये और और ऐसा बिहार बनाइये की आपके बच्चों को गाली नही सुननी पडे

  2. फिर तो बाढ़ देखकर लंदन और वेनिस के लोगो से भी ज्यादा खुश नसीब होने की फीलिंग आ रही होगी? 😀

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *